शुक्रवार, 5 अक्तूबर 2007

दुश्मनी दोस्ती जो हो जाये






तू भी आबाद रहे, मैं भी न बरबाद रहूँ
राह कुछ ऐसी निकल आये तो क्या अच्छा हो ।
तेरे गुलशन में बहारें आयें,
मेरा गुलशन खिला-खिला सा हो
मौसम गर ऐसे बदल जाये तो क्या अच्छा हो ।
तेरी तलवारें म्यान के अंदर,
मेरे तरकश में कोई तीर न हो
जंग गर खत्म ये हो जाये तो क्या अच्छा हो ।
तू भी आगे बढे और मै भी न पीछे को रहूं
दौड कुछ ऐसे हमारी हो तो क्या अच्छा हो ।
तू भी खुशीखुशी रहे, मैं भी न नाशाद रहूँ
मन्नतें पूरी जो हो जायें तो क्या अच्छा हो ।
तू भी अपना हाथ बढा, मैं भी कुछ आगे बढूँ
दुश्मनी दोस्ती जो हो जाये तो क्या अच्छा हो



आज का विचार
वाचन, चिंतन , मनन ।

आज का स्वास्थ्य सुझाव

रोज तिल (कच्चे या भुने आपके हाजमे पर निर्भर है )खाने से हड्डियाँ स्वस्थ रहेंगी ।
एक टिप्पणी भेजें