बुधवार, 17 अक्तूबर 2007

मन का एक कोना

मेरे मनका एक कोना रखा है मैने सुरक्षित अपने लिये ,
इस कोने में रहती है एक लडकी
बालिश, अल्हड, भोली
उसके बचपने में बहने देती हूँ मै उसको,
संजोकर रखती हूँ उसकी प्यारी प्यारी बोली




मेरा पीछा करते वार्धक्य की होने नही देती उसको आहट
उसके कैशोर्य में डूबने देती हूं उसे और सहेज कर रखती हूँ
उसकी खिलखिलाहट
उसकी आसमाँ को छूने की महत्वाकांक्षा को खूब देती हूँ खाद और पानी
और उसका विकास देख कर खुश होती हूँ मन ही मन
यह मेरा और उसका एक सांझा राज़ है तभी तो
मुझे ऐसे ही अलग रखना है ये कोना खास मेरा सिर्फ मेरे लिये ।


आजका विचार
ईश्वर हमारी सब प्रार्थनाएं सुनता है पर कभी कभी उसका जवाब होता है....नही ।

स्वास्थ्य सुझाव

पेट संबंधी ज्यादा तर तकलीफें रोज दही खाने से दूर हो जातीं हैं ।
एक टिप्पणी भेजें