शनिवार, 1 दिसंबर 2007

कैसे वो रात गुजरी

मेरे करीब होकर ऐसे वो रात गुजरी
मुझसे नजर चुराकर हाय वो रात गुजरी ।
नींदें मेरी उडायीं सपने कहाँ से देखूँ
बस आँखों ही आँखों में मेरी वो रात गुजरी ।
ख्यालों में अपने उनको मैने सजाया भी तो
बेख्याल हो गया मै, कैसे वो रात गुजरी ।
हमने उन्हे बुलाया ले ले के नाम उनका
मेरी ये बात शायद उन्हें नागवार गुजरी ।
सांसों में नाम उनका ले ले के जी रहा था
वो ही लगीं उखडने, परेशान रात गुजरी
उनके लिये की मैने अल्लाह की इबादत
वो बुत परस्त निकले, मंदिर में रात गुजरी ।
हुई मेरी कोशिशें सब नाकाम, दोस्त मेरे,
अब तू बता कि तेरी कैसी थी रात गुजरी ।


आज का विचार
सफलता के नियमों को पढने से सफलता नही मिलती
उन्हे समझना भी बहुत जरूरी है ।

स्वास्थ्य सुझाव
अगर दिन में नींद आये तो थोडा बाहर निकल कर धूप (रोशनी) में घूमें, नींद जाती रहेगी ।
एक टिप्पणी भेजें