शुक्रवार, 2 नवंबर 2007

वो बारिश के दिन



वो बारिश के दिन और भीगी सी रातें
तुम्हारी ही यादें तुम्हारी ही बातें

वो शाम सलोनी नदी का किनारा
वो पानी में पांव हिलाना तुम्हारा
वो पायल का बजना
वो लहरों का उठना
और पत्तों का करना हवाओ से बातें । वो बारिश....

महकता सा गजरा,और तीखा सा कजरा
वो नदिया पे बहता हुआ एक बजरा
वो बिखरी सी अलकें
वो बोझिल सी पलकें
वो प्यार की अनगिनत सौगातें । वो बारिश....

हवा का मचलना दुपट्टे का उडना
तुम्हारा सहमना सिमटना सिकुडना
वो आंचल को ओढे
फिरसे सम्हलना
और करना सहज प्यारी प्यारी सी बातें । वो बारिश....

बिजली कड़कना, बूंदों का गिरना
बूंदों का लडियों में बंध कर बिखरना
वो भीगा बदन
और भीगा सा चेहेरा
और आँखों में सिमटी हुई बरसातें । वो बारिश....

कहाँ है वो नदिया, कहाँ है वो पानी
कहाँ थम गई तेरी मेरी कहानी
भँवर में कहाँ
खो गई नाव अपनी
बिछडे हैं ऐसे कि मिल भी न पाते । वो बारिश..


आज का विचार

हारने के कई रास्ते होते हैं पर जीतने का सिर्फ एक ।


स्वास्थ्य सुझाव

बकरी का दूध पीना Cirrhosis of Liver में लाभकारी होला है ।
एक टिप्पणी भेजें