मंगलवार, 1 नवंबर 2011

कुछ अच्छा नही लगता


चांद भी आज जाने क्यूं कुछ मुरझाया सा है,
इसे भी मै तुम्हारे बिन, कुछ अच्छा नही लगता ।

सांस आती भारी सी है, तनहाई में उदासी है,
रूह भी प्यासी प्यासी है और कुछ अच्छा नही लगता ।

तुम वहां खंबे से टिक कर शून्य में तक रही होगी,
सोचती तुम भी तो होगी कि कुछ अच्छा नही लगता ।

तुम्हारी यादों का चेहेरा तुम्हारी खिलखिलाती हंसी
मुझे कितना सताती है और कुछ अच्छा नही लगता ।

बहुत कुछ सोच कर हमने किया था फैसला ये फिर,
क्यूं तुमसे बिछड कर अब, कुछ अच्छा नही लगता ।

अब दूरी और ये मुझसे सही बिलकुल नही जाती
चली आओ तुम्हारे बिन अब अच्छा नही लगता ।


चित्र गूगल से साभार ।
एक टिप्पणी भेजें