रविवार, 23 अक्तूबर 2011

कमल नयना कमल वदना


कमल नयना कमल वदना कमल दल निवासिनी
कमल हस्ता, कमल चरणा, कमल माला धारिणी
स्वर्ण, मौक्तिक, विविध मणिगण, आभूषण भूषिणी
सस्मित मुख, ममत्व युक्ता, अलक्ष्मी निवारिणी ।

सौभाग्य दाता वरद हस्ता मनाभिष्ट प्रदायिनी
क्षीर सागर जनित कन्या विष्णु पत्नि सुमोहिनी
तव आगमन सुलभ्य हो धन धान्य संपति अर्पिणी
मम नमन तव चरण अर्पित हे सुगंधा पद्मिनी ।

हो स्नेह दीप प्रज्वलित और ज्ञान का प्रकाश हो
हो प्रेम का वातावरण और निरापद आकाश हो
शांति का संदेश फैले, प्रहरी पर सचेत हों
मन का मिटे मालिन्य सब से मिलन का ये हेतु हो ।


आप सबकी दिवाली शुभ हो, मंगलमय हो ।
एक टिप्पणी भेजें