मंगलवार, 10 अगस्त 2010

नेपल्स का सौंदर्य



- नेपल्स एक अद्भुत और खूबसूरत जगह जो कि अपनी एक बांह से समंदर को अपने आगोश में बांधने की कोशिश करता सा प्रतीत होता है । यहीं से आप देख सकते हैं विसूवियस पर्वत के नजारे । यह भी अपनी खूबसूरती तथा अपने इतिहास की वजह से जग प्रसिध्द है । इसका ऐतिहासिक उद्गम कोई 7 वी शताब्दी में हुआ जब ग्रीक लोगों ने एट्रुस्कन लोगों के साथ युध्द करने के हेतु इसे अपनी कॉलोनी के रूप में विकसित किया । नाम दिया नापोलीस अर्थात् न्यू सिटी । कोई 4 थी शताब्दी में ये रोमन राज्य के घेरे में आया और कई सालों तक रोमन सम्राटों का प्रिय तफरीह स्थल रहा । उसके बाद ये स्वतंत्र राज्य के रूप में रहा । 15 वी से 18 वी सदी तक ये फ्रांस और स्पेन के बीच युध्द का कारण बना । बाद में गारीबाल्डी के समय ईताली में शामिल हुआ द्वितीय विश्व युध्द के दौरान नेपल्स को बॉम्ब हल्लों का और नात्सी अत्याचारों का शिकार होना पडा । हमने तो एक छोटीसी टूर व्यू ऑप नेपल्स करके ली जो हमें बसमें बिठा कर नेपल्स के सुंदर रास्तों की सैर कराने वाली थी । 
तो हमने वह बस ली और आराम से पीठ टिका के बैठ गये 6 मे से तीन लोगों के पास विंडो सीट थी । तो नज़ारे देखने का पूरा जुगाड था । इसमें हमारी गाइड हमें हर जगह के बारे में संक्षेप में बताती जा रही थीं ।  (विडियो )796-842-1
 
नेपल्स के चौक, बिल्डिंग्ज और चर्चेज देखे । यहाँ हमने उतर कर गेलरिया प्रिंन्सिपे दि नापोली देखी । यह एक बहुत सुंदर जगह है जिसे 1876 से 1883 के दौरान बनाया गया . यह लोहे शीशे तथा पत्थर की बनी एक सुंदर  इमारत है जिसमें बीच मे बहुत खुली जगह है । इसमे हमे आधुनिक प्राचीन वास्तुकला का अदभुत संगम दिखता है । (विडियो 796-842-2 )
 
यहीं पास मे था सेन फ्रान्सिसको का कथीड्रल तथा एक पुरातन महल जहां आजकल ऑफिसेज हैं । यहीं पर आते आते हमने कासल नूओवो (न्यू कासल)  देखा इस पुराने किले का चार्ल्स ऑफ एन्जौ ने  नवीनीकरण कराया ।  हमने  पोसिपिलो पहाडी  भी देखी । फिर हमें एक जगह रिफ्रेशमेन्ट के लिये उतारा गया और कॉफी या चॉकलेट Ice cream में से एक चुनने के लिये बोला गया । मैने और विजय ने आइसक्रीम ली और बाकियों ने कॉफी । कॉफी वाले घाटे मे रहे क्यूं कि कॉफी ठंडी थी । उसके बाद समंदर के किनारे किनारा होते हुए माउंट विसूवियस देखा और देखा नया पॉम्पई शहर । (विडियो 796-842-3) पुराना शहर 79 ए डी में विसूवियस के फटने से मिनिटों में लावे के नीचे दफन हो गया था । लोगों को कोई अवसर नही मिला सोचने या जान बचाने का । रुइन्स देखने हम नही गये क्यूंकि ऊबड खाबड रास्तों पर कोई 3 घंटे चलना था । आप विडियो में नेपल्स के सौंदर्य की एक झलक देखें (। ये ट्रिप हमारी छोटी सी थी फिर भी वापिस आते आते 3-4 घंटे तो हो ही गये थे । आकर लंच किया और सोना था पर सुहास को ज्वेलरी का एक्जीबीशन देखना था तो हम भी उसके साथ हो लिये ये एक्जीबीशन 7 वे डेक पर था । तो वहां गये और जी भर के आँखें सेंक लीं (गलत वाक् प्रयोग है  पर चीजें इतनी सुंदर थीं और लेना तो थी नही, तिस पर लाइटिंग ये लोग ऐसा करते हैं कि ज्वेलरी की सारी चमक परावर्तित होकर दुगनी तिगनी हो जाती है ) तो सुहास ने उल्का के लिये एक चेन ली । उसको वहां के सेल्सगर्ल ने बताया कि इसमे स्पेन का टैक्स शामिल है जो कि आपको उतरते समय ये रसीद दिखाने पर वापिस मिल जायेगा तो हम खुश हो गये । नीचे आये थोडा आराम किया और एक मूवी देखी “इनविक्टस” नेल्सन मंडेला के जीवन पर, बहुत अच्छी मूवी है । कल हमारे शिप का आखरी पडाव था पालमा डी मालोरका यहां हमने कोई टूर बुक नही की थी । (क्रमशः)
एक टिप्पणी भेजें