शुक्रवार, 14 अगस्त 2009

सलाम


उन वीरों को सलाम,
रणधीरों को सलाम,
देशभक्तों को सलाम,
शहीदों को सलाम ।

सलाम हिमालय को
और गंगा को सलाम
थार के मरुथल को
हरेभरे खेतों को सलाम ।

इस हिंद देश के
निवासियों सलाम
बाहर गये देश के
प्रवासियों सलाम ।

सलाम ज्ञानियों को
विज्ञानियों सलाम
देश के भविष्य
नौ-जवानों को सलाम

आजादी को सलाम
करना, रह के सावधान
भीतर बाहर दुष्मनों को
करना है नाकाम ।

भारत मां को सलाम
जन्मभूमि को सलाम
तेरे मेरे, सबके
कर्मभूमि को सलाम

सलाम सलाम सलाम
सलाम सलाम सलाम ।
एक टिप्पणी भेजें