शुक्रवार, 1 अगस्त 2008

मौका परस्त

नफरत करें या प्यार वो हम उनके हो लिये
दो चार दिन को ही सही बस साथ हो लिये ।

अब देखना है करवट किस, बैठता है ऊँट
अपना है क्य़ा, दायें तो कभी बायें हो लिये

जनता का क्या है उसको तो देना किसीको वोट
हम उसके साथ थे कभी, अब इसके हो लिये


सिक्का तो उसका चलता है जो मौका न छोडता
मौका जो छोड दे, उसे फिर क्या तो बोलिये

इस स्यासती अखाडे में पहलवान हैं सभी
हम है उसी के साथ कि जय जिसकी, बोलिये


आज का विचार

अगर हम आज भी बीते हुए कल में जीयेंगे
तो आनेवाले कल को कैसे देख पायेंगे ।

स्वास्थ्य सुझाव

दाँत के दर्द को कम करने के लिये एक टुकडा अद्रक
नमक लगा कर गरम करें और दुखते दाँत के नीचे रख लें
धीरे धीरे चबाते रहें दर्द अवश्य कम होगा ।

20 टिप्‍पणियां:

अजित वडनेरकर ने कहा…

मौकापरस्त सियासत और लोगों की भेड़चाल पर अच्छा व्यंग्य है।

डा. अमर कुमार ने कहा…

.

निःसंदेह एक शालीन कटाक्ष !

vipinkizindagi ने कहा…

yakinan bahut achchi rachna

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

दलदल
दलबदल
का ही
नया रूप है

मौकापरस्‍ती
सियासत का
उसूल है।

रंजू भाटिया ने कहा…

व्यंग अच्छा है यह

इस स्यासती अखाडे में पहलवान हैं सभी
हम है उसी के साथ कि जय जिसकी, बोलिये

मीनाक्षी ने कहा…

मौकापरस्ती पर अच्छा कटाक्ष .

परमजीत सिहँ बाली ने कहा…

badhiyaa rachanaa hai.

इस स्यासती अखाडे में पहलवान हैं सभी
हम है उसी के साथ कि जय जिसकी, बोलिये
sahi kahaa aaj sabhi chadhate suraj ko salaam karate hai.

कुश ने कहा…

करारा व्यंग्य है..

admin ने कहा…

अगर हम आज भी बीते हुए कल में जीयेंगे
तो आनेवाले कल को कैसे देख पायेंगे ।

समयानुकूल एवं सार्थक विचार है।

Anita kumar ने कहा…

वाह ! बहुत ही सुंदर कटाक्ष्…:)

बालकिशन ने कहा…

बहुत खूब.
जवाब नहीं आपका.

राज भाटिय़ा ने कहा…

आज का सच

शोभा ने कहा…

अब देखना है करवट किस, बैठता है ऊँट
अपना है क्य़ा, दायें तो कभी बायें हो लिये
बहुत सुन्दर और प्रभावी लिखा है।

shama ने कहा…

Pehlee baar aapke blogpe aayi...Kavitaa behad marmik lagee!!Shayad jo wajeh, hanseen, hasennme aapne bataayi, wahi wajah ho saktee jo maibhee kavitaa likhtee hun! Blogpe maujood hain...sirf archives me jaana hoga....2006 ke June, July me!
Shama

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

True...very trus ma'am !

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

इस स्यासती अखाडे में पहलवान हैं सभी
हम है उसी के साथ कि जय जिसकी, बोलिये
Sunder, ati sunder

Fighter Jet ने कहा…

bahut accha laga padh kar.

G M Rajesh ने कहा…

adrakh ka nuskhaa achchha hai

badhaii

मेनका ने कहा…

bahut sundar kavita.kyonki kavita jis nek niyat se likhi gayi hai, wah bhav spast aa rahe hai. keep it on.

kshetrapal Sharma ने कहा…

I have almost read full blog. All creations are mark of your excellent wit. Thank you , Ashaji. Please keep it on. Kshetrapal Sharma, kpsharma05@gmail.com