शनिवार, 26 जनवरी 2008

गणतंत्र दिवस


गणतंत्र दिवस की आप सबको शुभ कामनाएँ।
इस अवसर पर कई साल पहले लिखा गया
मेरे बडे भाई (स्व.)डॉक्टर शरद काळे द्वारा लिखित
गीत प्रस्तुत है ।

गणतंत्र दिवस मंगल-मय हो
भारत जन जीवन सुखमय हो । गणतंत्र...

देशभक्ती के कलाकार ने
तूलिका धरी चित्र बनाने
आंग्ल रंग रक्तिम धो उसने
इसे किया तिरंगा निर्भय हो । गणतंत्र...

संविधान का अंतिम खाका
बना आज इस दिन ने देखा
पंचशील का राग अनोखा
छेड उठे सब तन्मय हो । गणतंत्र...

भारत के अगणित सेनानी
तन मन धन की कर कुर्बानी
हुए अमर ये अमर कहानी
दोहरायें नत-मस्तक हो । गणतंत्र...


आज का विचार

वर्तमान समय ही मनुष्य का अपना है ।


स्वास्थ्य सुझाव

कदंब के पत्ते या छाल को उबाल कर इस पानी से
धोने पर कोई भी पुराना घाव धीरे धीरे भरने लगता
है और अच्छा हो जाता ङै
एक टिप्पणी भेजें