शुक्रवार, 8 अगस्त 2014

राखी






सावनी फुहार रिमझिम
चंदा की धुंधली टिमटिम
राखियों की चमकार
बहनों का ढेर सारा प्यार
अहा आई राखी।

अक्षत, रोली, मिठाई,
नारियल, राखी सजाई
दीप अक्षुण्णता का
बहन के मन की खुशी का
ले आई राखी।

मन में मंगल कामना,
चहुँ-ओर सद्भावना
जा पहुँचे सीमा पर
प्रहरी भाई जहां पर
ये स्नेहिल राखी।


आप सब ब्लॉगर भाई बहनों को राखी की शुभ कामनाएँ।
एक टिप्पणी भेजें