सोमवार, 12 सितंबर 2011

फालतू

संवाद थम जाता है माँ के साथ,
जब छूट जाता है बचपन का आँगन
चिठ्ठियों का अंतराल लंबे से लंबा होता चला जाता है
और सब सिमट जाता है एक वाक्य में,
“ कैसी हो माँ “ ?
माँ का जवाब उससे भी संक्षिप्त,
“ठीक” ।
पर उसकी आँखें बोलती हैं,
उसकी उदासी कह जाती है कितना कुछ ,
उसका दर्द सिमट आता है चेहेरे की झुर्रियों में
जब होता है अहसास उसको अपने फालतू हो जाने का ।

34 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय आशा जी
नमस्कार !

बहुत सारी बाते करती भाव प्रधान कविता

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही भावुक रचना.........हृदय के मर्म को दर्शाती हुई........

monali ने कहा…

Kuchh hi panktiyo me bahut kuchh samjha gayi aapki ye kavita... samvaadheenta dukhdaayi h.. maa k lie bhi aur hamare lie bhi ... magar maun todne me jaane kya baadhak bana hua h... :(

संगीता पुरी ने कहा…

ओह ..
मां का दर्द आपने खूब पढा ..
अच्‍छी अभिव्‍यक्ति !!

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

"ठीक" कहकर ही मां ने सबकुछ कर दिया. मां से बड़ा कोई क्या होगा.

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

उसकी उदासी कह जाती है कितना कुछ ,
उसका दर्द सिमट आता है चेहेरे की झुर्रियों में
जब होता है अहसास उसको अपने फालतू हो जाने का ।
सुन्दर रचना पढ़वाने के लिए आभार!

रविकर ने कहा…

सुन्दर रचना आपकी, नए नए आयाम |
देत बधाई प्रेम से, हो प्रस्तुति-अविराम ||

रश्मि प्रभा... ने कहा…

aapke shabd aankhon me tairne lage

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

माँ के साथ हम मानसिक तौर पर इतने जुड़े हुए होते है कि चंद शब्दों का लेन-देन ही काफी हो जाता है!...दिल को छू लेने वाली रचना!...धन्यवाद आशाजी!

उपेन्द्र ' उपेन ' ने कहा…

माँ के जज्बातों को इस कविता में आपने बखूबी समझा है... सुंदर प्रस्तुति.
.
पुरवईया : आपन देश के बयार

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
अवगत कराइयेगा ।

http://tetalaa.blogspot.com/

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

Abhishek Ojha ने कहा…

ओह !
सत्य !

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

हम तभी निराश होते हैं जब स्वयं को फ़ालतू समझने लगते हैं... इसलिये ये एहसास कभी किसी को नहीं कराना चाहिए... सराहना, प्रशंसा और झूठी जिद से यदि किसी को अपने किये का और अपनी मौजूदगी का ज़रा भी महत्व महसूस होने लग जाये तो उसे अपना जीवन सार्थक लगता है. ... ऐसे प्रयास बड़ों को ही नहीं छोटों को भी करने चाहिए.... अपनापन जताने के लिये मिथ्या तकरार भी होती रहनी चाहिए....

आदरणीया आशा जी, आपने अपनी 'फालतू' पोस्ट से हमारे कीमती समय को भावुक कर दिया.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

समय ठहरा है,
दर्द बड़ा गहरा है।

Rakesh Kumar ने कहा…

आपकी गहन अभिव्यक्ति बिना ज्यादा
कहे भी बहुत कुछ कह देती है.

मार्मिक भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए आभार.

मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
मेरी नई पोस्ट पर आपका इंतजार है.

Suman ने कहा…

खुपच सुंदर ताई, मर्मस्पर्शी रचना !

निवेदिता ने कहा…

नि:शब्द कर गये ये ज़ज्बात ......

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH ने कहा…

नि:शब्द!
आशीष
--
मैंगो शेक!!!

Arvind Mishra ने कहा…

एक उस असाहयता की और आपने इंगित किया है जो सबका अभीष्ट है मगर दुःख है कुछ किया भी नहीं जा सकता -नियति का यह क्रूर विद्रूप हममे से बहुतों को झेलना है !

Sunil Kumar ने कहा…

मर्मस्पर्शी रचना !नि:शब्द.......

बेनामी ने कहा…

दिल से लिखी हुई और दिल तक पहुँचती हुई, भावुक कर देने वाली अनुपम कविता।

अवनीश सिंह ने कहा…

http://premchand-sahitya.blogspot.com/

यदि आप को प्रेमचन्द की कहानियाँ पसन्द हैं तो यह ब्लॉग आप के ही लिये है |

यदि यह प्रयास अच्छा लगे तो कृपया फालोअर बनकर उत्साहवर्धन करें तथा अपनी बहुमूल्य राय से अवगत करायें |

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

आधुनिक समय में यह नीयति बन चुकी है बहुत से परिवार की। मेरे कई मित्र है जिनके तीन-तीन पुत्र हैं मगर एक भी साथ नहीं रहते। कभी त्यौहार में आ गये तो ठीक वरना इंतजार....लम्बा इतंजार...।
अब हमे इसे स्वीकारना और आगे की रणनीति बनानी होगी।

Vaanbhatt ने कहा…

माँ के फालतू होने का एहसास मन को छू गया...कभी वो ही थी जिसके बिना हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते थे...

sushma 'आहुति' ने कहा…

हर शब्द जैसे खुद अपने दर्द को कह रहा हो....

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

उसकी उदासी कह जाती है कितना कुछ ,
उसका दर्द सिमट आता है चेहेरे की झुर्रियों में
जब होता है अहसास उसको अपने फालतू हो जाने का

Bahut Badhiya....MAn ko Chhooti panktiyan

Rachana ने कहा…

wah bahut hi gahre bhav kamal
aapne rula diya
saader
rachana

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

'जब होता है अहसास उसको अपने फालतू हो जाने का'
..................हृदयस्पर्शी रचना

आशा ने कहा…

मन को छूती भावपूर्ण रचना |बधाई |
आप मेटे ब्लॉग पर आईं बहुत अच्छा लगा |इसी प्रकार स्नेह बनाए रखियेगा |
आशा

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

वाह.......वाह.....वह........

शीर्षक का बखूबी उपयोग किया आपने .....
बहुत अच्छी रचना .....
मैं लिए जा रही हूँ ...
यहाँ से एक पत्रिका निकलती है आगमन
उसे प्रेषित करुँगी ....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

एक उम्र में फालतू हो जाने का एहसास अभी से सिरहन दौड़ा देता है ... बहुत संवेदनशील लिखा है अपने ..

Nagarjuna ने कहा…

आदरणीय आशा जी सबसे पहले बहुमूल्य टिपण्णी के लिए शुक्रिया. मैंने भी यही सुना था की कोयल अपने अंडे भी कौवे के अण्डों के साथ रख देती है...लेकिन एक दिन उसे ऐसा करते देखा...फिर पढ़ा...तब लगा कोयल ऐसा भी कर सकती है! इसलिए इस महानीच ने ऐसा लिखा. आपकी बेबाक टिप्पणी मन को बेहद भायी ..a
अब मतलब की बात-
माँ पर लिखी आपकी पंक्तियाँ सटीक हैं...एक सच! प्रभावशाली अभिव्यक्ति.