मंगलवार, 26 अप्रैल 2011

सूरज से बडे




रात की महफिल में छलके जाम कितने
किसने गिने हैं किसने देखे ख्वाब कितने ।

किसने सुनाई नज्म यार-ए बेरुखी की
और मुहब्बत को नवाज़ा किसने किसने ।

अपनी बारी का किये हम इन्तजार,
पर शम्मा को आगे बढाया, हाय, किसने ।

कितनी आहें, कितने उफ, तौबायें कितनी
कह न पाये कुछ, हुए गुमनाम इतने ।

वो रकीब, वो बन गया महफिल का सूरज
वो ही रहा कहता गज़ल, वाह, वाह, कितने ।

हम उठे मेहफिल से जब मायूस हो कर
पूछा किया वह आसमाँ में चांद कितने ।

दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने ।

22 टिप्‍पणियां:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने

वाह वाह..

Suman ने कहा…

किसने सुनाई नज्म यार ए-बेरुखी की
और मुहब्बत को नवाजा किसने किसने
वाह! हर पंक्ति सुंदर बनी है ...

मीनाक्षी ने कहा…

दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने -- गहरा भाव छिपा है रचना में

संजय भास्कर ने कहा…

वो रकीब, वो बन गया महफिल का सूरज
वो ही रहा कहता गज़ल, वाह, वाह, कितने ।
सुन्दर रचना, ... ये पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगी

Abhishek Ojha ने कहा…

सुन्दर .

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

अभिव्यक्ति का खुबसूरत अन्दाज... वाह.

टोपी पहनाने की कला...

गर भला किसी का कर ना सको तो...

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

JHAROKHA ने कहा…

aadarniy mam
sabase pahle to aapse xhama chahti hun bahut vilamb se aapke blog par aane ki .
aswathata ke chalte net par baraabar nahi aa paa rahi hun.
balki mujhe bahut khed hai ki main chah kar bhi sabhi ke blog par jakar unki posto ko padh kar comments nahi de pa rahi hun.jab thoda theek anubhav karti hun tab do -char comments hi daal pati hun .
atah aap sabhi se dil se xhma chahti hun.
aapki gazal ki har panktiyan sachchai se rubaru karaati hain .aksar logo ke saath aisa hi hota hai.
हम उठे मेहफिल से जब मायूस हो कर
पूछा किया वह आसमाँ में चांद कितने ।

दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने ।
yah panktiyan to yatharth ko hi ingit karti hain.
kitni hi sahjta ke saath aapne inhe apne gahan shabdo mee piroya hai .
bahut bahut badhai v hardik naman ---
tippni dene me deri ho jaaye to fir se aapse xhma chahti hun
sadar dhanyvaad
poonam

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सूर्य निकट है, तभी है प्यारा।

रंजना ने कहा…

वाह..वाह...वाह...

एक से बढ़कर एक नायाब शेर काढ़े हैं आपने...

खूब आनंद आया पढ़कर...आभार.

cmpershad ने कहा…

वो ही रहा कहता गज़ल, वाह, वाह, कितने ।

धत्त कहिए ऐसे गज़लकार को, जो करते फ़ितने :)

kase kahun? ने कहा…

दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने ..kalpana aur science ka sundar samagam...

mehhekk ने कहा…

किसने सुनाई नज्म यार ए-बेरुखी की
और मुहब्बत को नवाजा किसने किसने
khubsurat waah
दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने
yeh sher ne tho dil hi jeet liya,behad bhavuk gazal sunder

sm ने कहा…

jo ravi no dekhe woh kavi dekeh
nice poem

anu ने कहा…

अपनी बारी का किये हम इन्तजार,
पर शम्मा को आगे बढाया, हाय, किसने ।

कितनी आहें, कितने उफ, तौबायें कितनी
कह न पाये कुछ, हुए गुमनाम इतने ।

वाह क्या बात है लाजवाब गज़ल ......

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

वाह वाह .... बेहद सुन्दर ..क्या बात क्या बात ... एक अजीब सा दिल हिला गयी... बहुत ही सुन्दर तरीके का आपका शिकायती अंदाज ...और अंत में सोने पर सुहागा ..
दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

दूर हैं बस, टिम टिमा कर आह भरते
वरना सूरज से बडे, हैं सितारे कितने ।


वाह वाह....!!

Kajal Kumar ने कहा…

सुंदर रचना पढ़वाने के लिए आभार.

शोभना चौरे ने कहा…

बहुत खूबसूरत शिकायत |

sandeep sharma ने कहा…

कितनी आहें, कितने उफ, तौबायें कितनी
कह न पाये कुछ, हुए गुमनाम इतने ।

वो रकीब, वो बन गया महफिल का सूरज
वो ही रहा कहता गज़ल, वाह, वाह, कितने ।

nice post...

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बड़ी प्यारी लगी यह कविता।

mridula pradhan ने कहा…

bahut achchi lagi aapki kavita.