मंगलवार, 19 जून 2018

कितने दिन

कितने दिन हो गये हैं
देस छोडे हुए हैं।
पडे परदेस में हैं,
अजब से वेश में हैं।
न चुन्नी और न आँचल
पेंट शर्ट में खडे हैं।
याद आती है घर की
अपने दिल्ली शहर की।
वहाँ के भीड भडक्के
और लोगों के वे धक्के।
वो त्यौरियाँ चढाना
वो दस बातें सुनाना।
और किसी का वो कहना
बस भी करो अब बहना।
साथ तो रोज का है
सफर थोडी देर का है।
उतरना है सभी को
न रहना है किसी को।
समझदारी की बातें
सॉरी सॉरी की घातें।
उस सबको याद करती
मन को बहलाती रहती।


एक टिप्पणी भेजें