गुरुवार, 31 मई 2012

चलते चलो रे १ (स्नो-बर्ड माउन्टेन क्लिफ क्लब)








इस बार अमेरिका आकर हमारा प्रोग्राम बना सॉल्ट लेक सिटी ओर यलोस्टोन नेशनल पार्क देखने का । हमारा प्रोग्राम हर वर्ष की तरह सुहास ने ही प्लान किया तो हम व्हाया ब्लेक्सबर्ग (वर्जीनिया ) उनके घर मार्टिन्सबर्ग पङुँचे । इस बार हमारे टिकिट कोलंबस (ओहायो ) से थे क्यूं कि वहां से टिकिट १२५ डॉलर सस्ता पड रहा था । १२५ गुणा ६  यानि ७५० डॉलर का फर्क । तो हम कार से पहले उल्का के यहां कोलंबस गये और उसकी मेहमान नवाजी का लुत्फ उठा कर १२ तारीख को सुबह ८ बजे सॉल्टलेक सिटि के लिये उडान भरी जो व्हाया मेम्फिस थी । वहां उडान बदल कर कोई १० बज कर ३० मिनिट पर (माउन्टेन टाइम ) सॉल्ट लेक सिटि पहुँचे । आज हमारे शादी की ४७ वी वर्षगांठ थी सबने बधाइयां दी ।
यहां हमें कार लेनी थी तो हमने एयर- पोर्ट पर ही हर्ट्झ नामक कंपनी से गाडी ली । बडी सी गाडी थी शेवी ट्रव्हर्स नामक अमेरिकन गाडी जो सुहास ने या विजय ने कभी चलाई नही थी । उनके पास हॉन्डा की सी वी आर है । पर थोडे से टीथिंग ट्रबल के बाद हम चल पडे हमारे रिसॉर्ट जो स्नो बर्ड नामक जगह में स्थित है । हम ने एयरपोर्ट से ८० ईस्ट लिया फिर लिया १५ साउथ और फिर २०९ वेस्ट । यह पहाडी रास्ता कॉटनवुड केनियॉन रोड कहलाता है । एक तरफ ऊँचे ऊँचे पहाड और दूसरी तरफ गहरी खाई यानि कैनियन । रिसॉर्ट का नाम था क्लिफ क्लब रिसॉर्ट । यह एक स्कीइंग रिसॉर्ट है । जहां अमेरिकन लोग स्कीइंग के लिये जाते हैं यहां कोई ८०० इंच (!!!!!) बर्फ गिरती है पर इस साल बहुत कम यानि केवल(?) ४०० इंच  ही बर्फ गिरी है । बीच में हमने के बर्गर किंग में रुक कर लंच कर लिया ।  हमें रूट २०९ लेकर आगे जाना था तो चल पडे । आगे रास्ते में बडे बडे पहाड दिखे एकदम पथरीले । । अमेरिका के और जगहों के मुकाबले यह इलाका थोडा ड्रेब लगा यानि हरियाली कम । सॉल्टलेक सिटि नाम ऐसे ही थोडे है । और हमारे रिसॉर्ट की उँचाई थी ८००० फीट और स्कीइंग स्लोप थे  कोई ११,००० फीट पर । हम रिसॉर्ट पर पहुंच कर खुश हो गये । चारों तरफ बर्फ वाले पहाड। इनका नाम है वॉसाट माउन्टेन यह रॉकी माउन्टेन्स रेन्ज का हिस्सा है । हमारे कमरे ८वी मंजिल पर हैं कमरा नं ८०८ और ८१०, बीच का दरवाजा भी है जो हमने खोल लिया तो अपारटमेन्ट ही बन गया । दोनों कमरों के साथ क बालकनी भी है, ऊँचाई से सब कुछ बहुत सुंदर दिख रहा है ।  पहुंचते पहुंचते कोई साढेतीन चार बज गये थे ।  तो आज घूमने का कोई कार्यक्रम नही बनाया। आते समय बर्गर किंग के पास एक स्मिथ नामक ग्रॉसरी स्टोर से ब्रेड आलू व प्याज ले लिये थे । रोटियां भी ( तोर्तिया) । शाम को आलू प्याज का रस्सा बनाया और खाना खा कर बात चीत की । (विडियो देखें)


रात को सोये ही थे कि राजू का फोन आ गया । कहा कि वसंत कुंज के हमारे घर में चोरी की कोशिश हुई है । मेरा तो मन ही उखड गया अभी घूमना शुरू ही हुआ था कि ये कैसी खबर आ गई । फिर पडौसियों से बात की । मेरा भतीजा जो ए आय आय एम एस में है उससे बात की तो पता चला कि एक खिडकी तोड कर चोर अंदर तो दाखिल हुए पर पडोसियों के चोकन्नेपन से कुछ कर नही पाये । हमारे एक बिलकुल नये पडौसी हैं, आर्मी मे है, उनकी जागरूकता से ही ये संभव हो पाया । भतीजे ने पुलिस रिपोर्ट की और मुआयने के बाद आनन फानन में खिडकी की ग्रिल फिर लगवा दी । मै तो स ट्रिप के तुरंत बाद वापिस जाने का सोच रही थी पर राजूने कहा कि सब ठीक है तो क्यूं जाओगी गर्मी में । मै जाउंगा जुलाय में और देख आऊंगा । मन में खुट खुट तो  अब भी है पर................................।
खैर दूसरे दिन हम गये स्कीइंग देखने । होटल के दर्शनी गेट के स्वागत कक्ष से ये स्कीइंग वाली  हिल  अच्छे से दिखती है तो हमने वहीं से पहले काफी फोटो खींचे । प्रकाश सुरेश और सुहास १२, १२ डॉलर के टिकिट लेकर एयर ट्राम से हिल के ऊपर चले गये । इस में एक साथ कोई ७५ आदमी बैठ सकते हैं । उन्होने ऊपर जाते हुए स्कीअर्स से बातें की  और ऊपर से बहुत सुंदर तस्वीरें खींची । यहां के  स्किइंग ट्रैक में घुमाव भी थे जिस पर स्किंइंग काफी मुश्किल होता है । एक आदमी तो लडखडा ही गया फर दो तीन कुलांचे मारने के बाद फिर उठ कर खडा हुआ और स्कीइंग चालू । एक भद्र महिला अपने सात और नौ साल के बच्चों के संग स्कीइंग करने आई थी । और दोनो बच्चे क्या माहिर थे । इस वक्त पहाड पर कोई पांच फीट मोटी तह रही होगी बर्फ की ।

जयश्री और मै फिर स्वागत कक्ष से निकले और ट्राम स्टेशन तक आये यहीं आगे जाकर एक गेट था जहां से स्कीअर्स नीचे आ रहे थे हमने नीचे आते हुए उनकी काफी तस्वीरें लीं । फिर वहां घूमते रहे । इस इलाके को स्नो-बर्ड सेंटर कहते हैं ।(विडियो देखें)


काफी चित्र खींचने के बाद हम वापिस अपने रिस़ॉर्ट आ गये । वापसी का रास्ता चढाई का था तो मै धीरे धीरे चल रही थी, मुझे यूं  चढते देख एक टूरिस्ट मुस्कुराया और बोला, यू कैन डू इट, मैने भी मुसकुरा कर जवाब दिया, यस आय कैन ।  थोडी देर बाद सुहास और दोनो भाई भी वापिस आ गये । उनसे ऊपर की सारी रोमांचक कहानियां सुनी और ऊपर कमरे में आये । आकर लंच किया और शाम को ग्रोसरी लेने गये । कल हमें जाना है यलोस्टोन नेशनल पार्क ।

(क्रमशः)

19 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

इतने खुशनुमा और रोचक वर्णन में चोरी की खबर मन खट्टा कर गयी..

kshama ने कहा…

Tazagi bhai post....aapne chori ko bhee sahajta se liya hai.

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

यात्रा का रोचक वर्णन,एक बात अच्छी रही कि,चोरों से आपका कोई नुकसांन नही हुआ,,,वर्ना यात्रा का मजा किरकिरा हो जाता,,,,,,

बहुत बढ़िया प्रस्तुति,,,,,

RECENT POST ,,,, काव्यान्जलि ,,,, अकेलापन ,,,,

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

रोचक .... किस्मत अच्छी है जो जागरूक पडौसी मिले हैं ......चोरी की घटना घटी नहीं ....अब निश्चिन्त हो कर घूमिये ...

Unknown ने कहा…

शादी की ४७ वी एनीवर्सरी की बहुत बहुत बधाई आशाताई!...यात्रा वर्णन बहुत ही रोचक है!...प्रस्तुति बहुत सुन्दर है!...बधाई
...चोर कुछ नहीं कर पाए यह अच्छा हुआ!

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति, बधाई सहित शुभकामनाएं ।

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

सुंदर संस्मरण।

बनारस में बैठ कर अमेरिका को इतने करीब से देखा..वाह रे ब्लॉगिंग तू भी कमाल है!

udaya veer singh ने कहा…

आपकी आँखों से हम सबको स्व्पनिला दर्शन ..सुखद लगा .... सफल सार्थक प्रयास ...बधाईयाँ जी /

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

बड़ा ही सजीव यात्रा वृत्तांत.

Arvind Mishra ने कहा…

आप भी खूब घुमक्कड़ हैं देश दुनिया एक किये दे रही हैं:)

मनोज कुमार ने कहा…

रोचक वर्णन!

शिवम् मिश्रा ने कहा…

खूब घुमवाया आपने ... बस चोरी की खबर ने थोड़ा मज़ा किरकिरा किया !

आपको ४७ वी एनीवर्सरी की बहुत बहुत बधाइयाँ ... अरुणा जी के माध्यम से हम भी जानकारी हुई !

इस पोस्ट के लिए आपका बहुत बहुत आभार - आपकी पोस्ट को शामिल किया गया है 'ब्लॉग बुलेटिन' पर - पधारें - और डालें एक नज़र - कहीं छुट्टियाँ ... छुट्टी न कर दें ... ज़रा गौर करें - ब्लॉग बुलेटिन

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत रोचक प्रस्तुति....

mridula pradhan ने कहा…

behad rochak.....ummeed hai 'vasant kunj'me sab theek hoga.

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

सुंदर यात्रा वृतांत ...सफ़र में ऐसी घटनाएँ मन व्यथित कर जाती हैं ....

संजय भास्‍कर ने कहा…

यात्रा का रोचक वर्णन

Rakesh Kumar ने कहा…

आनंदमय हो गया है मन आपकी चलते चलो रे की
यह कड़ी पढकर.

आपकी शादी की ४७ वीं वर्ष गांठ की बधाई.

शुक्र है चोरी होने से बच गई.

पर आपकी पोस्ट ने तो दिल चुरा लिया है आशा जी.

P.N. Subramanian ने कहा…

बहुत मजा आया. चोरियां हमारे अपने नेग्लिजेंस के कारण भी होती हैं. देर से पहुँच पाया. अभी भी घूम ही रहा हूँ.

P.N. Subramanian ने कहा…

बहुत मजा आया. चोरियां हमारे अपने नेग्लिजेंस के कारण भी होती हैं. देर से पहुँच पाया. अभी भी घूम ही रहा हूँ.