शुक्रवार, 28 अगस्त 2015

राखी
















एक अनोखा बंधन राखी,
स्नेह सुगंधित चंदन राखी,
भगिनि ह्रदय का स्पंदन राखी,
भाई का अभिनन्दन राखी।



नही महज़ एक धागा राखी,
नही रुपैया गहना राखी,
अंतर तक कुछ गहरा गीला,
भाव-सिक्त सा गुंजन राखी।
एक टिप्पणी भेजें