गुरुवार, 6 फ़रवरी 2014

दिन नीके नीके



रस, रंग, सुगंध, उमंग भरे
दिन नीके नीके औ निखरे।


मन में प्रिय सुधि जागे ऐसे
कोहरे से धूप छने जैसे
मन आकुल व्याकुल मीलन को
जगे रोम रोम में पुलक कैसे
फूलों पे मंडराते भंवरे
दिन नीके नीके औ निखरे।

खेतों में सोने सी सरसों
उनको आ जाना है परसों
कल का दिन बीतेगा कैसे
पिय की छवि देखत हूँ हर सों
बादल से धवल सुंदर संवरे
दिन नीके नीके औ निखरे।

शिशिर की हुई हलकी सिहरन
कोमल सी धूप खिली आंगन
बजते हवा के घुंगरू छनछन
गोरी के थिरक उठे कंगन
एक लहर उठी शब्दों के परे
दिन नीके नीके औ निखरे।

दुलहन सी धरा सजी सँवरी
मेहेंदी रचे, केसर की क्यारी
दूल्हे ऋतुराज के स्वागत में
छेडती तान कोयल प्यारी
गायक न्यारे, पंछी, भँवरे,
दिन नीके नीके औ निखरे



चित्र गूगल से साभार

11 टिप्‍पणियां:

राजेंद्र कुमार ने कहा…

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (07.02.2014) को " सर्दी गयी वसंत आया (चर्चा -1515)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह !

Anupama Tripathi ने कहा…

मन के तार को दे रही झंकार ..!!
बहुत सुंदर कविता ....!!

कालीपद प्रसाद ने कहा…

ऋतुराज वसंत का बहुत सुन्दर स्वागत !
New post जापानी शैली तांका में माँ सरस्वती की स्तुति !
सियासत “आप” की !

संजय भास्‍कर ने कहा…

वसंत के रंग और वासंती पवन की उत्कट प्रतीक्षा है अभी तो - वसंतपंचमी पर शुभकामनाएँ !

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर .
नई पोस्ट : प्रकृति से मानव तक

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वसंत हर आगत दिन को और निखारता रहे, शुभकामनायें।

निहार रंजन ने कहा…

बहुत अच्छी कविता. नीके-नीके पढ़कर अच्छा लगा. हमारी मातृभाषा मैथिली में भी अच्छा को नीक ही कहते हैं.

Vaanbhatt ने कहा…

खूबसूरत कथ्य...

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत कोमल अहसास...मन को आह्लादित करता बहुत सुन्दर शब्द चित्र...

Digamber Naswa ने कहा…

कोमल एहसास, मधुर गान सी ... उश्रंखल प्रेम नदी सी ... सुन्दर रचना ... मन को छूती हुई ...