शनिवार, 13 फ़रवरी 2010

अहसास



तुम्हारे प्यार का अहसास लपेटे रहता है मुझे कोहरे सा
कानों में गुनगुनाता है एक मधुर रागिनी
पायल की छनछन, बन जाती है मेरे दिल की धडकन
मन मोर नाचने लगता है उसके ताल पर
और इस अहसास में मै, हो रहता हूं मगन
अपने में ही ।
एक टिप्पणी भेजें